Wednesday, July 18, 2012

आनंद ने लाखों को जीना सिखा दिया


आनंद मेरे जमाने की फिल्म नहीं है. राजेश खन्ना भी मेरे जमाने के हीरो नहीं थे. वे मेरी मां के टाइम के हीरो थे मगर मेरी मां की फेवरिट फिल्म आनंद नहीं दाग थी, अराधना है. वे आज भी उन फिल्मों को उतने ही लगाव से देखती हैं. आनंद मेरे बड़े मामा की फेवरिट फिल्म है, जिन्होंने पिछले बीस साल से सिनेमा हॉल जाकर शायद ही कोई फिल्म देखी हो. जब उनसे फिल्मों के बारे में पूछता हूं तो वे गमन, भूख, आविष्कार, आगंतुक और गरमा हवा जैसी फिल्मों का नाम लेते हैं. मगर जब आनंद की चर्चा होती है तो कहते हैं कि इस फिल्म में उनकी और उनके साथ न जाने कितने लोगों की सोच बदल दी. जिंदगी को हंस कर जीने की अदा सिखा दी.
सचमुच आनंद अद्भुत फिल्म है, एक जीवन दर्शन है जिसे हृषिकेश मुखर्जी ने मजेदार कहानी बनाकर पेश कर दी और राजेश खन्ना ने तो जैसे मुरदे में जान डाल दिया हो. वरना ऐसी सीधी-सच्ची, सरल और गंभीर फिल्म को देखकर लोगों के होठ हंसते हैं और आंखें रोती हैं. .और फिर उस फिल्म का क्लाइमेक्स.. जैसे बरसों पहले तय हो चुका था कि जब राजेश खन्ना की मौत होगी तो हर चैनल इसी क्लाइमेक्स को दिखायेगा. बरसों बाद इस थीम को लेकर कल हो न हो बनी. मगर वह एक चमकती हुई तसवीरों का गुच्छा थी. सहज और सामान्य बातें करने वाला और घड़ी-घड़ी बाबू मोशाय कलने वाला आनंद गायब हो चुका था.
वैसी ही कहानी राजेश खन्ना की एक और फिल्म की है, जिसका नाम दुश्मन है. फिल्म मैंने देखी नहीं है. मगर कहानी बड़ी रोचक है. एक ट्रक डाइवर के हाथों हादसे में एक किसान की मौत हो जाती है. अदालत उसे सजा देती है कि वह उस परिवार के साथ रहे और उस इनसान की कमी को पूरा करे, जिसकी उसने जान ले ली है. वह जाता है, मगर परिवार के लोग उसे स्वीकार नहीं करते. उसे दुश्मन कह कर बुलाते हैं.. उस इनसान का बेटा उसे दुश्मन चाचा कहता है. बाद में दुश्मन दोस्तों से भी प्यारा हो जाता है...

1 comment:

Anonymous said...

खरगोश का संगीत राग रागेश्री पर आधारित
है जो कि खमाज थाट का सांध्यकालीन राग है, स्वरों में कोमल निशाद और बाकी स्वर शुद्ध
लगते हैं, पंचम इसमें वर्जित है, पर हमने इसमें
अंत में पंचम का प्रयोग भी किया है, जिससे इसमें राग बागेश्री भी झलकता है.

..

हमारी फिल्म का संगीत वेद नायेर ने दिया है.
.. वेद जी को अपने संगीत कि प्रेरणा जंगल में चिड़ियों कि चहचाहट से मिलती है.

..
Here is my homepage : संगीत